Kirana-Store-business-plan

किराना स्टोर बिज़नेस प्लान: अगर आपके मोहले में किराना स्टोर/जनरल स्टोर या मिनी ग्रोसरी स्टोर न हो तो क्या होगा? सोचिये अगर आपको अपनी जरुरत की हर छोटी-बड़ी चीज़ों जैसे चायपत्ती, टूथपेस्ट के लिए अलग-अलग जगह पर जाना पड़े। छोटे ग्रोसरी स्टोर या किराना स्टोर जितना कस्टमर्स के लिए महत्वपूर्ण है उतना ही बिजनेसमैन के लिए भी। हम जब भी कोई बिज़नेस शुरू करते है तो इसमें सबसे ज़्यादा इम्पोर्टेन्ट होता है बिज़नेस प्लान। तो आज हम आपको किराना स्टोर बिज़नेस प्लान की सारी महत्वपूर्ण जानकारी देंगे।

इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे:

किराना स्टोर क्या होता है

कौन खोल सकते है

मार्केट की रिसर्च करें

इंफ्रास्ट्रक्चर और लागत

किराना स्टोर में कितना मुनाफा है

जनरल स्टोर के लिए कानूनी प्रक्रियाएं

किराना दुकान सामान लिस्ट

मार्केटिंग कैसे करें

जनरल स्टोर का बिज़नेस कैसे बढ़ाये

किराना बिज़नेस के लिए टिप्स

किराना बिज़नेस से जुड़े कुछ सवाल


किराना स्टोर क्या होता है

किराना स्टोर जिसे हम परचून की दुकान और मिनी ग्रोसरी स्टोर के नाम से भी जानते है में सारी वह चीज़ें होती है जिनकी जरुरत हमें अपने घर में रोज़ होती है। सेलर्स यहाँ होलसेल किराना प्राइस लिस्ट पर सप्लायर से सामान खरीदकर उससे कस्टमर्स को मार्जिन के साथ बेचते है और कभी-कभी डिस्काउंट और ऑफर्स भी देते है अपनी सेल्स बढ़ाने के लिए। यह आपको अपनी लोकैलिटी में हमेशा मिलेंगे।

आज कल कस्टमर तीन जगह से अपनी जरूरत का सामान लेते है:

  1. किराना स्टोर या मिनी ग्रोसरी स्टोर
  2. सुपर मार्केट या डिपार्टमेंटल स्टोर
  3. ऑनलाइन ग्रोसरी स्टोर

आजकल ऑनलाइन ग्रोसरी स्टोर्स जैसे की बिगबास्केट, ग्रोफर्स इत्यादि बहुत तेज़ी से बढ़ रहे है लेकिन फिर भी लोगों को अपनी लोकैलिटी की किराने की दुकानें जाना ज़्यादा पसंद है। इंडियनरिटेलर.कॉम के अनुसार हमारे देश में लगभग 12 मिलियन किराने की दुकानें है जो 90% एफ़&जी मार्केट (फ़ूड एंड ग्रोसरी मार्किट) का शेयर है। देश की जनता इन रिसोर्स की वजह से आज भी इन्हीं ‘मॉम एंड पॉप स्टोर्स’ को ज़्यादा पसंद करते है:

  1. यहाँ सेलर का कस्टमर के साथ एक व्यक्तिगत होता है।
  2. दुकानदार ज़्यादातर वो ही सामान रखते है जिसकी डिमांड उनकी लोकैलटी में होती है, अपने कस्टमर की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए।
  3. जनरल स्टोर ज़्यादातर कस्टमर के घर के पास ही होते है।
  4. सेलर ज़्यादातर कस्टमर को व्यक्तिगत रूप से जानते है तो वो उसे क्रेडिट फैसिलिटी भी देता है।
  5. कस्टमर आसानी से प्रॉडक्ट को वापस या बदल सकते है।

कौन खोल सकते है

किराने की दुकान खोलने के लिए किसी भी विशेष क्वालिफिकेशन या कोर्स की जरुरत नहीं है लेकिन अगर आपने 10-12वीं तक पढाई की है तो आपको हिसाब-किताब में मदद मिलेगी। इसे कोई भी खोल सकता है। दुकान शुरू करने से पहले किसी पहले से बनी जनरल स्टोर के सेलर से एक बार बात करके थोड़ी जानकारी ले लीजिये और जिस लोकैलिटी में आप स्टोर खोलने वाले है वहां कितना कम्पटीशन है और वह किस तरह के प्रोडक्ट की डिमांड है उस पर अच्छे से रिसर्च करें।

मार्केट रिसर्च

किसी भी बिज़नेस को शुरू करने से पहले हमेशा मार्केट की रिसर्च करनी चाहिए तभी आप अपने बिजनेस में मुनाफा कमा सकते है। परचून की दुकान खोलने से पहले यह ज़रूर देखें जिस लोकैलिटी में आप दुकान खोल रहे हैं वहां कस्टमर्स किस प्रोडक्ट की डिमांड कर रहे है।

आप दो तरह से अपनी दुकान खोल सकते है:

बनी बनाई दुकान के फायदे

बनी बनाई किराना स्टोर और कंस्यूमर बेस भी पुराने स्टाफ को अपने साथ रखा जा सकता है और ज्यादा प्रोमोशन करने की जरुरत नहीं पड़ती है।

नुकसान
बनी बनाई दूकान को खरीदना महंगा होता है। खरीदने के लिए ज्यादा लोन लेने की जरुरत पड़ सकती है। दुकान जहाँ हैं वहीं आपको अपना बिज़नेस शुरू करना होगा।
नई किराने की स्टोर के फायदे

नई दूकान खड़ी करने में इन्वेस्टमेंट कम लगता है। मतलब कम खर्चे में शुरू की जा सकती है। मन चाहे लोकेशन पर दूकान शुरू कर सकते है।

नुकसान
नई दूकान खोलने और नए कंस्यूमर्स को आकर्षित करने की जरूरत होती है और नए स्टाफ को हायर करने की जरुरत पड़ती है। कंस्यूमर्स बढ़ाने के लिए प्रोमोशन की काफी जरुरत होगी।

दुकान की लोकेशन

हम जब कोई भी स्टोर खोलते है तो उसकी लोकेशन एक बहुत महत्वपूर्ण मुद्दा होता है। जब भी हम अपनी दुकान खोलें तो हमें उसकी लोकेशन की अच्छी मार्केट रिसर्च करनी चाहिए तभी हमारी दुकान प्रॉफिट अच्छी करेगी। दुकान खोलते हुए ध्यान रखें:

  • जनरल स्टोर हमेशा बड़ी जनसंख्या वाले क्षेत्र में ही खोलना चाहिए क्यूंकि इस स्टोर में हमें तभी प्रॉफिट होगा जब रोज़ बहुत ज्यादा लोग खरीदने आएंगे।
  • आप यह किसी भी रेजिडेंसियल एरिया, अपार्टमेंट में खोल सकते है।
  • यह भी देखिये कि आसपास कितने और जनरल स्टोर है और वो कैसे चल रहे है।
  • ऐसी लोकेशन पर दुकान ना खोलें जहां पर बहुत सारे दुकानें है क्योंकि एक नई दुकान का ऐसी जगह कंपीट बड़ा कठिन होगा।

साथ में यह भी देखिये कि अगर कोई स्टोर उस जगह नहीं चल रहा है तो उसका कारण जानें और फिर अपने स्टोर में थोड़े बदलाव करें ताकि वह उस लोकेशन में प्रॉफिट कमा सकें।

स्टोर का साइज भी बहुत महत्वपूर्ण हैं क्योंकि किराने की दुकान में बहुत सारा सामान होता हैं और वह सब कस्टमर को दिखना चाहिए तभी कस्टमर्स खरीदी करेंगे।

ज़्यादातर अगर आप छोटे जनरल स्टोर खोलते है तो 2000 फीट की दुकान काफी है लेकिन आप 1000 फीट की भी खोल सकते है।

अगर आपको दुकान की लोकेशन सर्च करने में कोई समस्या हो रही है तो आप यहाँ सर्च कर सकते है:

1. MagicBricks
2. 99 Acres

इंफ्रास्ट्रक्चर और लागत

जनरल स्टोर खोलने के लिए 50000 से 100000 रुपए तक की लागत सामान खरीदने के लिए चाहिए। आप अगर चाहे तो इससे ज़्यादा भी पूंजी लगा सकते है। कितना पैसा लगेगा उसकी कोई अधिकतम सीमा नहीं हैं। यह आपकी दुकान के साइज पर निर्भर करता है।

आपकी दुकान का प्राइस हर लोकेशन में अलग होगा। दुकान को खरीदने की कॉस्ट के अलावा आपको और भी बहुत सारी चीजें जैसे कि प्रचार करने का कॉस्ट, लीगल फीस, सप्लायर से सामान खरीदने की कॉस्ट यह सब भी होगा।

यह सारी चीजें मिलाकर आपको कम से कम 4-5 लाख रुपए का इनवेस्टमेंट लगेगा।

किराना स्टोर में इंफ्रास्ट्रक्चर और इंटीरियर डिज़ाइन बहुत जरूरी होता है। आपकी दुकान का इंटीरियर ऐसा होना चाहिए कि कस्टमर्स को सारा सामान अच्छे से दिख जाये और सामान भी आसानी से रखा जा सके।

जनरल स्टोर में काउंटर, रैक, फ्रीज़ की जरूरत होगी। आप इंटीरियर डिजाइनर भी रख सकते है।

आपकी दुकान में आपको फर्नीचर की जरुरत होगी। आपको जिस फर्नीचर की जरुरत होगी हमने उसके प्राइस के साथ यहाँ लिस्ट बनायीं है:

फर्नीचरसंख्याकीमत (लगभग)
दुकान का काउंटर15,000
डिस्प्ले रैक210,000
ग्रोसरी रैक315,000
फ्रीज़140,000
कुल (लगभग)
70,000-80,000

आपको जनरल स्टोर फर्नीचर का सामान यहाँ पर मिल जायेंगे:

1. Pepperfry 2.UrbanLadder 3. IndiaMART

तो आपकी कुल लागत (सामान+दुकान में इनवेस्टमेंट+फर्नीचर) मिलाकर 6,00,000 से 7,00,000 रुपए तक हो सकती है।

आप दुकान खरीदने के इलावा रेंट पर भी ले सकते है। आपकी दुकान का रेंट लोकेशन के अनुसार होगा। छोटे शहर में किराया बड़े शहर के मुक़ाबले कम होगा। आपको किस जगह कितना रेंट देना होगा आप नीचे दी हुई वेबसाइट पर देख सकते है। इससे आपको लाइसेंस फीस और स्टॉक के साथ-साथ इंफ्रास्ट्रक्चर कॉस्ट का भी अंदाज़ा लग जायेगा।

आप अपने जनरल स्टोर के लिए लागत यहाँ से ले सकते है:

पर्सनल इन्वेस्टमेंट – पर्सनल इन्वेस्टमेंट यानि अपने ही मनी को अपने शॉप के लिए इन्वेस्ट करना सबसे बेस्ट ऑप्शन होता है। कारण इससे आपको लोन लेने की जरुरत नहीं पड़ेगी जो कि आपको फ्यूचर में वापिस भरना होगा। इसके अलावा अगर भविष्य में किसी और से इन्वेस्टमेंट करनी पड़ जाये तो आपकी खुद से की गयी इन्वेस्टमेंट आपके इन्वेस्टर के लिए एक ट्रस्ट पॉइंट बन जायेगा कि आप अपने बिज़नेस के बारे में सीरियस हैं।

किराने की दुकान के लिए लोन – बैंक लोन किसी भी छोटे या बड़े बिज़नेस के लिए काफी महत्वपूर्ण होता है। अगर आपके पास अपना खुद का इन्वेस्टमेंट नहीं हैं तो आप बैंक से लोन सैंक्शन करवा सकते हैं। बैंक से लोन सैंक्शन करवाने के लिए आपको कुछ चीज़ों की जरूरत होगी, जैसे;

  • आपकी आयु सीमा 21 से 65 साल की होनी चाहिए।
  • आपको एक प्रॉफ़िट मार्जिन दिखानी होगी जो बैंक को ट्रस्ट प्रोवाइड करेंगे।
  • एक प्रोपर बिजनेस प्लान दिखाना होगा जो कि लोन प्रोवाइडर को आपके बिजनेस के बारे में पूरी जानकारी दे सके।

फाइनेंस में एक और काफी इम्पोर्टेन्ट फैक्टर होता है आपके शॉप का इन्सोरेंस। भारत में लोग इन्सोरेंस पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं जबकि आपको कभी किसी भी नुकसान जैसे चोरी या कोई एक्सीडेंट से बचने के लिए शॉप की इन्सोरेंस करवाना काफी जरुरी है। इन्सोरेंस के लिए भी आपको किसी इन्सोरेंस कंपनी से संपर्क करना होगा।

किराना स्टोर में कितना मुनाफा है

  • किराने की दुकान को अच्छे से चलाने में कम से कम 6 महीने तो लगेंगे। जनरल स्टोर में प्रॉफिट मार्जिन 25-40% तक का होता है।
  • अगर आपका अपना नया जनरल स्टोर खोल रहे हैं तो आपको शुरुआत में 10,000 रुपयों की लागत से कम से कम 15 से 30 हजार रुपए हर महीने कमा सकते है।
  • किराने की दुकान सही से चलने में समय लगता हैं लेकिन जब आपकी दुकान एक बार चलने लग जाये तो आप अच्छा पैसा कमा सकते हैं। जिस सामान पर ज़्यादा मार्जिन हैं उससे ज़्यादा सेल करने की कोशिश करें।
  • मार्जिन प्राइस स्पीसीज़ पर बहुत ज़्यादा होता हैं कम से कम 25%, तो आप इससे डिस्काउंट पर भी सेल कर सकते है। स्टोर में दो तरह के प्रोडक्ट होते है:
  1. लोकल प्रॉडक्ट: प्रॉफ़िट मार्जिन ज्यादा होता है।
  2. ब्रांडेड प्रॉडक्ट: प्रॉफ़िट मार्जिन कम होता है।

ज़्यादा मुनाफे के लिए आप शुरुवात में कम प्रॉफिट मार्जिन रखें ताकि आप ज़्यादा लोगों को आकर्षित कर सकें क्योंकि जब तक आप कस्टमर्स को अपनी स्टोरी का हीरो नहीं बनाएंगे तब तक आपकी पॉकेट में पैसा नहीं आएंगे।

जनरल स्टोर के लिए कानूनी प्रक्रियाएं

जनरल स्टोर खोलने के लिए आपको इन कानूनी प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ेगा:

FSSAI फूड रजिस्ट्रेशन

FSSAI के नियमों को पूरा करें और लाइसेंस नंबर लें। एफ़एसएसएआई की गाइडलाइन को पूरा करना बहुत जरूरी हैं क्योंकि “सुरक्षित आहार स्वस्थ्य का आधार”। आप इस वेबसाइट पर रजिस्टर करके FSSAI का लाइसेंस ले सकते हैं: यह है आधिकारिक वेबसाइट।

FSSAI रजिस्ट्रेशन की ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।

GST टैक्स रजिस्ट्रेशन

इसके अलावा आपको अपने दुकान का जीएसटी रजिस्ट्रेशन भी करवाना पड़ेगा। आप अपनी दुकान का जीएसटी रजिस्ट्रेशन गवर्नमेंट द्वारा प्रोवाइडेड वेबसाइट से कर सकते हैं, लिंक यह हैं – जीएसटी की ऑफिसियल वेबसाइट और इसके लिए हमें इन दस्तावेजों की जरुरत है –

  1. आपका पैन कार्ड।
  2. बिजनेस रजिस्ट्रेशन का प्रूफ।
  3. आईडी और एड्रेस प्रूफ (फोटो के साथ)।
  4. आपके बिजनेस का एड्रेस प्रूफ।
  5. बैंक अकाउंट स्टेटमेंट।
  6. डिजिटल सिग्नेचर।

जीएसटी रजिस्ट्रेशन की ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।

किराना दुकान सामान लिस्ट

आपको अपनी दुकान में प्रोडक्ट्स रखने के लिए व्होलसेलर सप्लायर सर्च करना होगा। ऐसा सप्लायर ढूंढे जो आपकी दुकान के पास हो ताकि ट्रैवेलिंग कॉस्ट बचे और इसके अलावा ध्यान रखें कि वह आपको ज़्यादातर प्रोडक्ट्स दे सकें क्योंकि जितने ज़्यादा प्रोडक्ट आपको मिलेंगे आपको उतना ही ज़्यादा डिस्काउंट और आपको ओवरऑल कॉस्ट भी कम होगा। ऐसा सप्लायर सर्च करें जो आपकी सही प्राइस में सारा सामान दे दें।

अक्सर जनरल स्टोर पर यह सामान होता है

  • ग्रोसरी और स्टेप्लस जैसे दाल, आटा, चावल, शक्कर, तेल, मसाले, ड्राई फूड इत्यादि।
  • फल और सब्जियाँ।
  • बेवेरेज जैसे कोल्ड ड्रिंक्स, ज्यूस, दूध, पानी इत्यादि।
  • फ़्रोजन फूड जैसे कूकीज़, चिप्स, कैंडीज़, चॉकलेट, पापड़ इत्यादि।
  • पर्सनल केयर जैसे क्रीम, साबुन, शैंपू, ब्रस, सेविंग का सामान।
  • हाउसहोल्ड की जरूरी चीजें जैसे डिटर्जेंट, क्लीनर्स, रूम फ्रेसनेस इत्यादि।

मार्केटिंग कैसे करें

किसी भी नए व्यापार को शुरू करने के बाद उसकी मार्केटिंग करना बहुत ज़्यादा जरूरी होता हैं क्योंकि अगर आप मार्केटिंग नहीं करेंगे तो आप अपनी ऑडियंस तक अपना सामान नहीं पंहुचा पाएंगे। आपको सही मार्केटिंग के तरीके का चुनाव करना होगा तभी आपका बिज़नेस अच्छा प्रॉफिट कमा सकेगा।

मार्केटिंग करते हुए इन सब चीजों का जरूर ध्यान रखें:

  • आप कस्टमर बढ़ने के लिए अपने कस्टमर्स को ऑफर डिस्काउंट जरूर दें।
  • इसके अलावा आप फ़ेस्टिव ऑफर भी दे सकते है अपने कस्टमर को आकर्षित करने के लिए।
  • आप कस्टमर के लिए फ्री में होम डिलिवरी और फोन पर ऑर्डर लेने की फेसिलिटी भी जरूर दें।
  • दुकान के बाहर आप जो बोर्ड लगाएँ उसमें साफ-साफ यह लिखा होना चाहिए कि आपकी दुकान आपकी आखिर क्या बेचती है क्योंकि यह आपकी दुकान की मार्केटिंग के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है।
  • आज कल से समय में आपको अपनी दुकान ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरीके से एडवरटाइज़ करना होगा। आप अपनी दुकान का इन तरीके से कर सकते है:

ऑनलाइन प्रचार

गूगल माय बिज़नेस – गूगल माय बिज़नेस गूगल की तरफ से एक फ्री टूल हैं जिससे आप अपने किराना स्टोर बिजनेस को गूगल की लिस्टिंग में डाल सकते हैं। इसका फायदा ये है कि जब भी कोई गूगल पर सर्च करेंगे कि आस पास किराना स्टोर कहाँ है या फिर सीधा आपके नाम से आपकी दुकान ढूंढ़ना चाहेगा तो उससे बहुत आसानी से आपकी स्टोर का सारा डिटेल गूगल पर मिल जायेगा।

गूगल माय बिज़नेस आपके स्टोर का नाम शॉप तक पहुँचने का डायरेक्शन, फ़ोन नंबर, रिव्यू, रेटिंग्स, फोटो और डिटेल्स सब कुछ एक ही जगह पर आपके कस्टमर तक पहुंचा देगा। इसके अलावा अगर कोई किसी एरिया में अपने आस पास किराना की दुकान ढूंढ रहा हैं और आपका जनरल स्टोर उस एरिया के रेंज में आ रहा है तो आपके शॉप का नाम और डिटेल भी गूगल की लिस्ट में आ जायेगा। इससे आसानी से आपकी जनरल स्टोर को कोई भी ऑनलाइन ढूंढ सकता है।

जस्ट डायल – जस्ट डायल एक ऐसा प्लेटफार्म है जो कि किसी भी एरिया के लोकल बिज़नेस की जानकारी देते है जो कि आपको या तो इंटरनेट के माध्यम से आपको मिलेगी या फिर कॉल के जरिये पता चलेगी।

जस्ट डायल में भी गूगल माय बिज़नेस की तरह आपको अपना बिजनेस रजिस्टर करना होगा। अंतर बस इतना हैं कि जस्ट डायल में आप दो तरह की लिस्टिंग करा सकते है – फ्री लिस्टिंग या फिर पेड लिस्टिंग।

रजिस्ट्रेशन का प्रोसेस काफी सिंपल होता है और ये आप ऑनलाइन उनकी वेबसाइट से करा सकते है या फिर आप 8888888888 पर कॉल करके भी रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

ऑफलाइन विज्ञापन

होर्डिंग्स – क्यूंकि आपका बिज़नेस ऐसा बिज़नेस है जो कि लोग ज्यादातर ऑफलाइन यानि बिना इंटरनेट के माध्यम से ढूंढ़ते हैं इसीलिए ये जरुरी है कि आप अपने बिज़नेस का प्रचार होर्डिंग और पेपर मीडिया के माध्यम से भी कर सकते है। होर्डिंग को लेकर आपको कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए जैसे –

दुकान खुलने से कुछ दिनों पहले आप अपने शॉप के आगे “ओपनिंग सून” का होर्डिंग जरूर लगा दें ताकि आते जाते लोगों को पता रहे कि एक नया किराना स्टोर उनके एरिया में खुलने वाला है।

आप अपने मिनी ग्रोसरी स्टोर का होर्डिंग ऐसी जगह लगाए जहां पर ज़्यादा लोग आते जाते हो तभी लोगों को आपकी दुकान के बारे में पता चलेगा।

पेम्फ़लेट – अपने शॉप का प्रचार आप पेम्फ़लेट के जरिये भी कर सकते हैं। इसे या तो आप खुद आने जाने वाले लोगों को दें या फिर अपने एरिया के लोकल न्यूज़पेपर वाले को कुछ पैसे देकर भी घर-घर तक पहुंचा सकते हैं।

जनरल स्टोर का बिजनेस कैसे बढ़ाएँ

एक बार आपकी किराने की दुकान जम जाए उसके बाद आपको उसके एक्सपेंशन पर काम करना होगा क्योंकि आज कल प्रतिस्पर्धा बहुत ज्यादा है कि आप बिना एक्सपेंशन किराना स्टोर बिज़नेस प्लान को सर्वाइव कर ही नहीं पाएंगे। आपकी दुकान ठीक से जमने में 6 से 12 महीने लग जाएँगे तो उसके बाद आपने जो पैसा कमाया है उसे अपनी दुकान को और अट्रैक्टिव, नयी सुविधाएं शुरू करने में इन्वेस्ट करें। याद रखें जैसे कि आपकी दुकान बढ़ेगी तो आपको ज़्यादा स्टाफ की जरुरत होगी। आप अपने स्टोर का विस्तार ऐसे कर सकते है:

1. मिनी सुपर मार्केट

जब आपके स्टोर में ज़्यादा कमाई होने लग जाये तो आप इसे मिनी सुपर मार्केट में भी कन्वर्ट कर सकते है जहां लोग रैक पर रखा हुआ सामान खुद ही ले लेते ट्रॉली और बास्केट की मदद से। इससे आपका प्रॉफिट भी बढ़ेगा क्योंकि अब आपकी दुकान में आप ज़्यादा प्रोडक्ट्स रख पाएंगे और लोग आसानी से अपने अनुसार ले पाएंगे। कस्टमर को सामान लेने के लिए लाइन में भी नहीं लगना पड़ेगा।

2. ऑनलाइन किराणा स्टोर

आप अपने स्टोर की ऑनलाइन वेबसाइट भी बना सकते है जहां से आपके लोकैलिटी में रहने वाले उपभोक्ता आराम से घर बैठे ही ऑर्डर कर पाएंगे। आपको बस अपनी वेबसाइट बनाकर उसपर अपने प्रोडक्ट लिस्ट करने होंगे। आप डिलीवरी बॉय भी रख सकते है जो सामान कस्टमर तक पहुंचाने में काम आएंगे। आज कल की व्यस्त ज़िंदगी में लोग चाहते है कि उनके सारे काम घर बैठे ही आराम से हो जाये तो आपकी दुकान जब अच्छा खासा प्रॉफिट कमाने लग जाये तो आप यह कर सकते है।

3. स्नैपबिज के साथ रजिस्टर करना

स्नैपबिज एक ऑनलाइन प्लेटफार्म है जो किराने की दुकानों की इन्वेंटरी मैनेजमेंट करने में और बिलिंग प्रोसेस में मदद करता हैं। आप इस प्लेटफार्म पर रजिस्टर करके इसकी सुविधाओं का फायदा उठा सकते है। इससे आपके पैसे की भी बचत होगी क्योंकि इन्वेंटरी ख़राब होने पर आपको बहुत नुकसान होता है और बहुत बार आपका स्टाफ ढंग से इन्वेंटरी मैनेज नहीं कर पाते। इससे आपकी दुकान में मैनपावर की जरुरत भी कम होगी और आपको बहुत प्रॉफिट होगा। इसके बारे में और जानने के लिए इस लिंक को खोलें।

स्नैपबिज की आधिकारिक वेबसाइट

किराना बिजनेस के लिए टिप्स

1. उतना ही प्रोडक्ट अपनी दुकान में रखें जितनी डिमांड हो वरना आपका सामान ख़राब हो जाएगा। इससे आपको बहुत हानि होगी। अपनी इन्वेंटरी को इस तरह रखें कि सामान खराब न हो और साथ ही में कम भी पड़े।

2. जब आप नया स्टोर खोल रहे हैं तो आप स्कीम डिस्काउंट और कूपन का भी यूज कर सकते है उपभोक्ताओं को लुभाने के लिए।

3. फ्रेंडली स्टाफ को अपनी दुकान में रखें क्योंकि अगर आपके काम करने वाले लोग अच्छी आदत वाले नहीं होंगे तो आपके कस्टमर वापिस नहीं आएंगे।

4. अपनी दुकान में बच्चों का सामान जैसे कि कैंडीज, चॉकलेट इत्यादि और नए प्रोडक्ट ऐसी जगह पर रखें जहां से कस्टमर की नज़र एकदम उस पर पड़ जाए और वह ज़रूर ही खरीदा।

5. जिस प्रोडक्ट की ज़्यादा डिमांड हैं उसे स्टॉक में ज़रूर रखें और उसे ऐसी जगह रखें जहां कस्टमर की नज़र एकदम पड़ जाए।

6. दुकान खोलने से पहले आप जिस लोकैलिटी में अपना स्टोर खोल रहे है वहाँ एक बार देख लें कि आपका कॉम्पिटिटर कैसे काम कर रहा हैं और वह अपने कस्टमर्स को कैसे मैनेज करते है।

7. अपनी दुकान को साफ और आकर्षित रखें ताकि आपके कस्टमर बार बार आयें। आपको उन्हें एक फ्रेंडली एनवायरनमेंट देना जरूर होगा।

8. आज कल किसी भी दुकान पर जाने से पहले उसके रिव्यूज हमेशा देखता हैं तो आप ध्यान रखें कि आप अपने कस्टमर्स को खुश रखें और अगर कोई सामान दुकान में न हो तो उससे मंगवा ले क्योंकि तभी आपके कस्टमर के साथ लॉन्ग टर्म रिलेशन्स बनेगा।

9. जब आप अपना बिजनेस नया नया शुरू कर रहे हैं तो अपने कॉम्पिटिटर्स के कम्पेरिशन में अपने प्रॉडक्ट का प्राइस कम रखें क्योंकि एक बार कस्टमर ने आपकी दुकान में आना शुरू कर दिया तो वो जरूर बार बार आएगा।

किराना बिजनेस से जुड़े कुछ सवाल

Q. 1) कौन शुरू कर सकते है?

उत्तर – जनरल स्टोर कोई भी खोल सकता है इसके लिए कोई क्वालिफिकेशन की जरुरत नहीं है बस आपको बेसिक गणित आनी चाहिए हिसाब किताब के लिए।

Q. 2) दुकान के लिए लोन कहाँ से लें?

उत्तर – आप दुकान के लिए लोन बैंक से ले सकते है, ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।

Q. 3) जनरल स्टोर में कितना मुनाफा है?

उत्तर – आप अपना नया जनरल स्टोर खोल रहे है तो आपको शुरुआत में 1 लाख की लागत से कम से कम 15 से 30 हजार महिना कमा सकते है।

Q. 4) फर्नीचर कितने का आएगा?

उत्तर – आपकी दुकान का फर्नीचर लगभग 67300 तक का आएगा।

इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको जनरल स्टोर खोलने की सारी जरूरी जानकारी मिल गयी होगी। हमने पूरी कोशिश की है हम आपको सारी महत्वपूर्ण चीजों के बारे में बताएं। अगर आपको कुछ और पूछना है तो हमें कमेंट में पूछ सकते है।

जन्म से ही क्रिकेट का दीवाना हूँ लेकिन क्रिकेटर बन नहीं सका और अब विकिपीडियन बनकर खिलाड़ियों पर लिखना शौक बना दिया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here