करियर नौकरी चाहिए

अच्छा रिज्यूमे या CV कैसे बनाया जाता है और जानें रिज्यूमे का फॉर्मेट

इस आर्टिकल को पढ़कर आपको पता चलेगा कि रिज्यूमे या CV कैसे बनाया जाता है. हम आपको रिज्यूमे लिखना सिखायेंगे और रिज्यूमे के फ़ॉर्मेट के बारे में भी बतायेंगे. आपको पता चलेगा कि आप कहाँ से रिज्यूमे के फॉर्मेट डाउनलोड कर सकते है और आसानी से MS word पर रिज्यूमे बना सकते है.

मेरा नाम आशुतोष भरद्वाज है और मैं जोश टॉक्स में मार्केटिंग हेड हूँ. मैंने अपने 13 साल के करियर में हज़ारों रिज्यूमे देखें है और दर्जनों लोगों को जॉब दी है.

मैं जानता हूँ कि नौकरी देने वाले कैसे सोचते है तो मैं आपको बताऊंगा अंदर की बात जो हैं ऐसे रिज्यूमे टिप्स जो मेरे तजुर्बे से मैंने सीखा है.


रिज्यूमे के साथ-साथ आपको ये भी जानकारी होनी चाहिए कि जॉब पोर्टल्स पर नौकरी कैसे ढूंढ़ते हैं. नीचे क्लिक करके जानें कि नौकरी कैसे ढूंढ़ते हैं –

जानिये कैसे ढूंढ़ते हैं नौकरी 

जॉब या नौकरी कैसे ढूंढ़ते हैं?

इस आर्टिकल में जानेंगे कि

  1. रिज्यूमे फॉर्मेट कैसे बनाएं ?
  2. रिज्यूमे में क्या लिखते है ?
  3. इसके सेक्शन कैसे होने चाहिए ?
  4. फ्रेशर रिज्यूमे का फॉर्मेट
  5. अनुभवी लोगों के लिए रिज्यूमे
  6. रिज्यूमे लिखने का तरिका

मैं आपको बताउंगा ऐसा मंत्र या फ़ॉर्मूला जिससे आप आसानी से रिज्यूमे का कंटेंट बनाना सीख जायेंगे.

एमएस वर्ड में कैसे बनाएं रिज्यूमे ?

मैं आपको बताऊंगा कुछ ऐसी वेबसाईटों के नाम जहाँ से आप फ्री तथा आसानी से रिज्यूमे या सीवी के फॉर्मेट को डाउनलोड़ कर सकते है और उनको एमएस वर्ड में डालकर अपना कंटेंट लिख सकते है.


आर्टिकल के लेखक के बारे में

आशतोष भारद्वाज (B.E | MBA)
Work Experience: Team Lead at Honeywell India | Marketing head at Broomberg Services | Currently VP – Marketing at Josh Talks
आशुतोष को कॉर्पोरेट कम्पनीज और स्टार्ट उप में १३ साल का अनुभव है. उन्होंने अपने करियर में काफी सरे लोग रिक्रूट करे है इसलिए उनको रिज्यूमे बनाने के बारे में और जॉब इंटरव्यू का काफी एक्सपीरियंस है.
Yahan click karke aap Ashutosh ki professional LinkedIn profile dekhein


रिज्यूमे कैसे बनाते है?

हम आपको बताते है कि रिज्यूमे बनाने का सरल तरीका क्या है.

कुछ लोग कहते है कि रिज्यूमे का एक ही फॉर्मेट या टेम्पलेट होता है लेकिन हम नहीं मानते. हर किसी का रिज्यूमे अलग होना चाहिए क्योंकि हम सब अलग-अलग लोग है.

तीन स्टेप है रिज्यूमे बनाने के:

  1. रिज्यूमे में क्या लिखें
  2. रिज्यूमे का कंटेंट कैसे लिखना चाहिए
  3. रिज्यूमे का फॉर्मेट – कंप्यूटर में MS Word / PDF रिज्यूमे कैसे बनाएं.

रिज्यूमे में लिखते क्या-क्या है?

मैंने काफी लोगों से बात करी है रिज्यूमे के बारे और एक चीज जो मैंने काफी ज्यादा देखी है कि लोगों को पता ही नहीं है कि आखिर रिज्यूमे या सीवी में क्या लिखना चाहिए.

देखो, यह बात तो सबको पता है कि रिज्यूमे में आपने क्या पढाई करी है है और अगर आपके पास कार्य का अनुभव है तो उसके बारे में लिखना चाहिए लेकिन यह काफी नहीं है क्योंकि सब यही तो लिखते है.

रिक्रूटर या जॉब देने वाले के पास इतने रिज्यूमे आते है कि जबतक आपका रिज्यूमे अलग नहीं लगेगा तब तक आपको इंटरव्यू का कॉल नहीं आयेगा. इसलिये आपको अगर अच्छा रिज्यूमे बनाना है तो आपको कुछ और लिखना होगा.

तो इसी बात पर हम आपको रिज्यूमे बनाने का पहला मन्त्र देता है

रिज्यूमे बनाने का पहला मन्त्र है

“जीवन में जो कुछ किया है, सोच समझकर लिख दें”

रिज्यूमे आपकी जिंदगी का सार होता है. आपको सोच कर वो बातें लिखनी है जिनसे आपकी खूबियाँ निखर कर आयें. लेकिन पहले सब कुछ याद करना होगा आपको और बस लिख देना होगा. लेकिन याद रखना कि…

  • समय लगाकर और सोच कर लिखें.
  • कोई चीज छोटी या बड़ी नहीं होती, किसी भी चीज से आपकी खूबियाँ बाहर निकल सकती है.
  • जो भी आप लिखोगे उसी में से हम चीजों को निकालेंगे और रिज्यूमे में डालेंगे.

रिज्यूमे में क्या लिखना है यह समझने के लिए यह मजेदार वीडियो देखें ↓↓↓

जिंदगी में आत्म चिंतन बहुत जरुरी है. जबतक आप सोचोगे नहीं अपने बारे में और अपनी जिंदगी के बारे में तब तक आप की खूबियाँ नहीं आ पायेगी.

इस पहले मंत्र से जो कुछ मिलेगा उससे हम रिज्यूमे लिखेंगे. लेकिन पहले जान लें कि रिज्यूमे में क्या-क्या भाग होते है.


आप इन आर्टिकल्स को भी पढ़ सकते हैं


रिज्यूमे में कौन-कौन से सेक्शन होते है या भाग होते है?

जैसा कि हमने पहले बात की थी कि रिज्युमे का कभी भी एक फॉर्मेट नहीं हो सकता है क्योंकि…

• सबकी अपनी अलग -अलग जिंदगी होती है तो रिज्यूमे का अलग-अलग ही फॉर्मेट होगा.
• अगर सबके रिज्यूमे में एक ही बात लिखी होगी तो फिर नौकरी देने वाले कैसे जानेगा कि कौन अच्छा है और कौन बुरा.

इसलिए आपको रिज्यूमे के भागों के बारे में एक बार सोचना चाहिए अच्छी तरह से.

पहले बात करते है कि फ्रेशर के लिए क्या-क्या भाग होने चाहिए. फिर बात करते है कि अनुभव वाले लोगों के रिज्यूमे में और क्या डाला जा सकता है.

फ्रेशर फॉर्मेट

पहले बात करते है कि फ्रेशर (जिन्होंने कहीं काम नहीं किया और पहली बार जॉब के लिए) उनके रिज्यूमे का फॉर्मेट क्या होना चाहिए.

याद रखें कि जरूरी नहीं है कि हर चीज आपने लिखनी है. मैंने सारी चीजें लिख दी है और आप किनको रखना चाहते है और किनको नहीं. 

रिज्यूमे कैसे बनाते है और रिज्यूमे फॉर्मेट कहाँ से डाउनलोड कर सकते है जानने के लिए देखें यह वीडियो

नाम और कॉन्टेक्ट इन्फॉर्मेशन

रिज्यूमे में रिज्यूमे आपका है तो आपका नाम भी इसमें होना जरूरी है.

कॉन्टेक्ट की जानकारी में आपको सिर्फ नंबर और ईमेल और अपना पता लिखना होता है. याद रखें कि आपका ईमेल पता अच्छा और प्रोफेशनल होना चाहिए क्योंकि अजीब नाम की ईमेल से काफी प्रभाव पड़ता है. जैसा उदाहरण के लिए bikerkoolamit@gmail.com या फिर xxxamit@gmail.com ऐसे नाम न रखें.

कॉन्टेक्ट की जानकारी में अपना पता लिखने की जरुरत नहीं है क्योंकि कोई यह नहीं जानता है कि आप कहाँ रहते है. अगर उनको जानना ही होगा तो वो पूछ लेंगे.

संक्षिप्त जानकारी

कॉन्टेक्ट के बाद आपको अपने जीवन के बारे में अर्थात करियर के बारे में संक्षिप्त में लिखना होता है.

संक्षिप्त जानकारी को हम Summary भी कह सकते है जिसमें पूरा विस्तार से नहीं बल्कि छोटा सा सार लिखना होता है अपने करियर के बारे में. यह 2 या 3 लाइन का ही होना चाहिए जिसको पढ़कर उन्हें आसानी से समझ आ पाए.

पढ़ाई-लिखाई

यह तो हर रिज्यूमे में होना जरूरी होता है.

इस भाग का फॉर्मेट ऐसा हो सकता है कि

साल कोर्स संस्थान विश्वविद्यालय/बोर्ड प्रतिशत
2018 MBA (मार्केटिंग) पोस्ट ग्रेजुएशन इंस्टीट्यूट विश्वविद्यालय का नाम 70%
2016 B.A ग्रेजुएशन इंस्टीट्यूट विश्वविद्यालय का नाम 60%
2013 12वीं कक्षा XYZ स्कूल CBSE Board 80%
2011 10वीं कक्षा ABC स्कूल ICSE Board 85%

साल – इसमें आपको वह साल लिखना होता है जिसमें आपने कोर्स किया है. अगर आपका कोर्स पूरा नहीं हुआ है तो आपको लिखना है (चल रहा है) और अगर कोर्स तो पूरा हो गया लेकिन परिणाम नहीं आया है तो उसमें आपको लिखना है कि (परिणाम अभी आया नहीं है).

टिप – रिक्रूटर पास होने के साल से बीच के गैप वाले सालों को पता कर सकते है. अगर कहीं भी गैप लिया है तो कारणों के साथ सीधा-सीधा बता दें.

कोर्स – इसमें आपने जो पढाई में कोर्स किया है वो बताना है जैसे उदाहरण के लिए BA. B.com इत्यादि.

संस्थान – इसमें आपको उस संस्थान या स्कूल का नाम लिखना है जहाँ से यह आपने कोर्स किया है.

टिप- अगर आपका स्कूल या कॉलेज का काफी नाम है तो इस सेक्शन को डालना चाहिए और अगर नहीं है तो आप विश्वविद्यालय या बोर्ड वाले सेक्शन में ही लिख सकते है और इस सेक्शन को निकाल सकते है.

प्रतिशत – यहाँ आपके पूरे प्रतिशत या ग्रेड क्या है वो लिखना है.

#TIP-अगर आपको पढाई में प्रतिशत अच्छे नहीं मिले है तो आप उसको यहाँ लिखें ही नहीं. याद रहे कि यह रिज्यूमे आपका है इसमें जितना चाहो उतना ही दिखाओ.


रिज्यूमे के साथ साथ नौकरी के लिए कवर लेटर भी बहुत जरुरी है. कवर लेटर बनाने का तरीका जानने के लिए निचे क्लिक करें –

जानिए कैसे बनाते हैं कवर लेटर 

कवर लेटर बनाना सीखें 


कुछ बातों का ध्यान रखें
  • जो क्वालिफिकेशन पहले पूरी करी है उसको लिखो, मतलब अगर आप ग्रेज्युएट हो तो ऊपर ग्रेजुएशन फिर 12वीं और 10वीं.
  • अगर आपने अपनी कक्षा में टॉप किया है तो आप एक और सेक्शन उपलब्धि या (Achievement) का डाल सकते है जिसमें आप यह बात आप लिख सकें.
  • अगर आपके कम अंक है लेकिन बढ़ भी रहे तो आप उसे लिख सकते है. कहने का मतलब यह है कि 10वीं में आपके 40% थे और फिर 12वें 50% और इसके बाद ग्रेजुएशन में 60% बन जाते है तो इससे रिक्रूटर के दिमाग में यह ख़याल आयेगा कि आप तेजी से सीखते हुए आगे बढ़ रहे है.
  • 10वीं के बारे में आपको बात करने की जरूरी नहीं है अगर आपके पास कार्यानुभव अच्छा है तो.
प्रोफेशनल कोर्स

अगर पढाई के साथ-साथ आपने कुछ कोर्स या कोई सर्टिफिकेशन कोर्स कर रखा है तो उसे भी लिख दें. यहाँ आप प्रोफेशनल कोर्स के कुछ उदाहरण देख सकते है.

कंप्यूटर कोर्स जैसे 

  • NIELIT से CCC का कोर्स.
  • एक ग्रेड के साथ जेटकिंग प्रमाणित हार्डवेयर और नेटवर्किंग इंजीनियरिंग कोर्स.
  • एनआईआईटी से हार्डवेयर और नेटवर्किंग में स्नातकोत्तर का कोर्स किया गया.

इंग्लिश का स्पीकिंग कोर्स

वीडियो एडिटिंग कोर्स

और कोई सर्टिफिकेशन कोर्स जैसे

  • डाटा इंट्री का कोर्स
  • टैली
  • एमएस वर्ड
  • वेब डवलपमेंट
पाठ्यानुवर्ती कार्यकलाप (Co Curricular activities)

पढ़ाई के अलावा जो आपने किया है उनको पाठ्यानुवर्ती कार्यकलाप या co curricular activities कहते है. जैसे खेलकूद, कॉम्पीटीशन में भाग लेना या उनको आयोजित करवाना.

इन गतिविधियों से आपकी गुणवत्ता और खूबियाँ निकलकर आती है. पाठ्यानुवर्ती कार्यकलाप जो आप लिख सकते है रिज्यूमे में वो होती है.

किसी इवेंट या प्रतियोगिता का आयोजन करना

अगर आपने किसी भी समारोह को आयोजित करवाया है या आयोजन की टीम में भाग लिया है तो इसको डालना न भूलें. आयोजन करने में आपका कौशल सामने आता है और नौकरी देने वाले को पता चलता है कि आपके…

  • लोगों के काम करने का कौशल
  • कर्मठता और मेहनत करने की भावना
  • टीम मैनेजमेंट स्किल या टीम के साथ काम करने की भावना
  • दबाव में काम करने का कौशल.

यह जरूरी नहीं है कि आपने पूरे फंक्शन का आयोजन करवाया है, अगर आप आयोजन टीम का भाग भी है तो यह भी अच्छा है और आपको लिखना चाहिए.

पार्टिसिपेशन या भाग लेना

अगर आपने किसी समारोह या प्रतियोगिता में भाग लिया है या कुछ जीता है तो यह भी आप उसमें लिख सकते है.

खेल

खेलकूद या स्पोर्ट्स के बारे में भी आप डाल सकते है अपने रिज्यूमे या सीवी में. खेलकूद के बारे में पता नहीं क्यूँ लोगों के मन में भ्रम है कि यह चीज अच्छी नहीं होती है.

स्कूल, कॉलेज, आर्मी और कुछ सरकारी नौकरियों में स्पोर्ट्सपर्सन का रिजर्वेशन होता है या स्पोर्ट्स खेलने का फायदा मिलता है.

इसका मतलब है कि स्पोर्ट्स अगर आपने डाला हो तो अच्छा रहता है. भाग लिया हो तो या कुछ जीता हो यह सब कुछ लिखना है. अगर आप टीम के कप्तान थे तो यह भी लिखना चाहिए.

स्किल (Skills)

स्किल्स या कहें तो कौशल ऐसी चीजें होती है जो नौकरी के लिए बहुत जरूरी होती है. जैसे कंप्यूटर का कौशल या कोई सॉफ्टवेयर जो आपको आता होगा.यह स्किल जो  सर्टिफिकेशन आपने जैसे है उसमें से ही निकलने चाहिए और उनकी लिस्ट बनानी चाहिए.


इसके अलावा जैसे ही आप नौकरी पर जॉब्स के लिए अप्लाई करना शुरू करते हैं, आपके पास इंटरव्यूज के लिए कॉल्स आने लगती हैं. इंटरव्यू की तैयारी कैसे करें जानने के लिए निचे क्लिक करें –

जाने कैसे करें इंटरव्यू की तैयारी 

इंटरव्यू की तैयारी करें 


सामाजिक कार्य (Social work या volunteer experience)

इसको रिज्यूमे में जरूर डालना चाहिए. अगर आपने कोई भी ऐसा काम किया है जिससे किसी समाज की मदद हुई जैसे

  • बच्चों को पढ़ाना
  • वृद्ध आश्रम में वोलुंटियर करना
  • ग़रीबों के लिए खाना या सामान इकठ्ठा करना
  • साफ-सफाई करवाना

और बहुत कुछ सेवा या जन कल्याण का काम करना हो सकता है आपने जिसको इस सेक्शन में लिखना है.

इंटर्नशिप

अगर आपने कोई इंटर्नशिप करी है मतलब आपने किसी कंपनी के साथ कम किया है तो इसके लिए आपको एक अलग से सेक्शन बनाना होगा जिसका टाइटल होगा “इंटर्नशिप”

इंटर्नशिप को आप कार्यानुभव के सेक्शन में डाल सकता है क्योंकि आप कंपनी में ही काम करते है और इससे आपको काम का अनुभव हो जाता है.

अनुभवी लोगों के लिए फॉर्मेट

अगर आप फ्रेशर नहीं हो और आपने कुछ साल तक काम किया है तो फ्रेशर रिज्यूमे से आपका यह रिज्यूमे अलग होगा.

कार्य अनुभव

ध्यान रखिये है कि आपके पास कार्य का अनुभव है इसलिए शिक्षा से पहले आपको एक सेक्शन बनाना होगा कार्य अनुभव का. कार्य अनुभव के इस सेक्शन को आप अलग-अलग तरीके से लिख सकते है, अलग-अलग फॉर्मेट में लेकिन याद रखें कि कुछ चीजों को डालना जरूरी है जैसे:

  • कंपनी का नाम
  • आपका पद
  • कब से कब तक आपने काम किया है उस कंपनी में
  • आपने क्या किया और उसका क्या फायदा हुआ (हम इसके बारे में आपको आगे बताते है)

याद रखना है कि जो लेटेस्ट जॉब है वो पहले डालनी है.

पुरस्कार और उपलब्धियाँ

जॉब करते हुए अगर आपको कोई पुरस्कार या कहें तो अवॉर्ड मिला है तो इसका आप एक अलग से सेक्शन बना सकते है और इसको लिख सकते है.

याद रखना है कि कार्य अनुभव वाले व्यक्ति के रिज्यूमे या CV में यह कार्य अनुभव वाला सेक्शन काफी जरूरी होता है और इसको काफी जगह जगह देनी चाहिए. अगर एक पेज में रिज्यूमे नहीं पूरा हो पाता है तो कुछ और चीजें निकाल दें लेकिन कार्य अनुभव में से कुछ न घटाएं क्योंकि यह सबसे जरूरी होता है अगर आपको नौकरी चाहिए तो.

रिज्यूमे का कंटेंट कैसे लिखते है ?

चलो अब हमारे सेक्शन तो बन गए और यह भी पता चल गया है कि रिज्यूमे के फॉर्मेट क्या होता है और उसमें क्या लिखा जाता है.

तो अब बात करते है कि रिज्यूमे में कैसे लिखें आप अपनी उपलब्धियों को.

इसके लिए हम आपको बताते है एक आसान मंत्र या फ़ॉर्मूला.

यह ध्यान देना है कि बस यह ही नहीं लिखा कि आपने क्या किया लेकिन यह जरूर लिखना है कि जो काम किया उसका क्या फायदा हुआ या क्या बेनेफिट हुआ.

रिज्यूमे लिखने का यह है मंत्र

“Applied ABC skill on PQR task to get XYZ result”

अगर इसका हम हिंदी में बताएं तो

“अपने कौशल या स्किल्स का इस्तेमाल मैंने करा एक काम में और उसका यह फायदा हुआ”

यहाँ आप इसके कुछ उदाहरण देख सकते है

गलत सही
गणतंत्र दिवस के सामारोह का आयोजन करना 26 जनवरी के समारोह के आयोजन समिति का नेतृत्व किया. समारोह को 500 लोग देखने आये और उन्होंने प्रशंसा की.
कंपनी के लिए सेल की सेल्स टारगेट से ज्यादा सेल करी हर महीने और बोस से हर बार खूब प्रशंसा पायी
कंपनी के लिए सोशल मैनेजमेंट किया कंपनी के सोशल मीडिया पेज के मैनेजमेंट में नई पहल की वजह इंगेजमेंट में 50 % की बढ़ोतरी हुई जिससे 20% आमदनी कंपनी की

आपने जो किया है उसकी उपलब्धि के बारे में बात करना जरूरी है अपनी सीवी में. इसी से नौकरी देने वाले अर्थात रिक्रूटर को पता चलेगा आप में वो कौशल है या नहीं जिसकी नौकरी या जॉब में जरूरी है.

याद रखना है कि…

  • नंबर बोलते है तो अपनी उपलब्धियों में हमेशा कुछ नंबर या आंकडें डालें.
  • अगर कोई आंकड़ें नहीं मिल रहे है तो जो किया उसका फायदा बता सकते है.
एमएस वर्ड में रिज्यूमे कैसे बनाया जाता है ? 

सीवी का फॉर्मेट या सेक्शन भी हम को पता चल गये और कैसे लिखना है वो भी. अब सवाल यह आता है कि एमएस वर्ड में रिज्यूमे कैसे बनाया जाता है.

काफी तरीके होते है इसके

ऑनलाइन बहुत सारे वेबसाईट है जहाँ से आप रिज्यूमे के टेम्पलेट डाउनलोड कर सकते है और उसमें आप अपना कंटेंट डाल कर रिज्यूमे बना सकते है. हमने काफी सारे वेबसाईटें देखी है उनमें से सबसे अच्छी वेबसाईट Hloom.com लगी.

काफी सारी साइट्स आपको ऐसी मिलेगी जहाँ रिज्यूमे या सीवी का टेम्पलेट डाउनलोड करने के लिए पैसे मांगती है लेकिन Hloom.com पर ऐसा नहीं होता है.

यहाँ क्लिक करके रिज्यूमे फॉर्मेट देखें

यहाँ काफी सारे अलग-अलग रिज्यूमे के फॉर्मेट है जिसमें आप अपनी पसंद का चुन सकते है.

पहले आपने जो फॉर्मेट काजग पर बनाया है उससे मिलता जुलता फॉर्मेट को ढूंढें और डाउनलोड करें. यहाँ काफी सारे रिज्यूमे के फॉर्मेट है तो उसको सलेक्ट करो जिसके सेक्शन और फॉर्मेट आपने जो लिखे है वैसे ही.

जब आप टेम्पलेट पर जाकर क्लिक करेंगे तो एक नया पेज खुलेगा. उस पर पर दायीं तरफ एक छोटा सा लिंक होगा जो कहता है कि यह फ्री है. उस लिंक पर क्लिक करें.

जैसे ही आप क्लिक करेंगे तो रिज्यूमे MS word फॉर्मेट में डाउनलोड हो जाएगा. आप जहाँ से डाउनलोड करते है वहाँ जाकर उस डाउनलोड टेम्पलेट को ओपर करें या ब्राउजर में ही नीचे जाकर क्लिक कर सकते है.

आपको बता दें कि आपको रंगीन बटन दिखेगा उसपर क्लिक नहीं करना है क्योंकि वह विज्ञापन है अर्थात कहें तो एड है. इसके बाद जो टेम्पलेट आपको अच्छा लगे और पसंद आ जाए तो उसको डाउनलोड करके उसमें आप अपना कंटेंट डाल सकते है और आसानी से रिज्यूमे बना सकते है.

जब आप टेम्पलेट को MS word में खोलेंगे तो आपको दिखेगा कि हर चीज को आप एडिट कर सकते है. इसमें आपको सिर्फ पुराने लिखे कंटेंट को हटाकर वहाँ अपना कंटेंट लिखना है. पहले इस टेम्पलेट में कुछ बटन और लिंक होते है उनको हटा दें.

अगले पेज पर hloom.com के क्रेडिट लिखे होते है इनको भी सलेक्ट करके हटा सकते है.

फिर आप सारी जानकारी को बदलकर अपना रिज्यूमे बना सकते है और कुछ सेक्शन नए भी जोड़ सकते है तो बिना काम के हटा भी सकते है. रिज्यूमे के साथ कवर लेटर की भी जरुरत होती है नौकरी के लिए अप्लाई करने के लिए इस कारण आपको यह भी बनाना चाहिए.

काफी वेबसाईट ऐसी है जो इसके लिए पैसे मांगती है लेकिन कुछ ऐसी भी वेबसाईट है जहाँ से आप रिज्यूमे के टेम्पलेट फ्री में डाउनलोड कर सकते है और फिर ऊपर बताये गए तरीकों से अपना सीवी अथवा रिज्युमे बना सकते है.

Resume genius

इस वेबसाईट में रिज्यूमे के काफी सारे लेआउट है जिनको आप डाउनलोड कर सकते है और इसके बाद एमएस वर्ड में जाकर एडिट करते हुए अपनी जानकारी डाल सकते है.

इस साईट से जब आप रिज्यूमे डाउनलोड करोगे तो एक ZIP फ़ाइल मिलेगी जिनको आप एडिट करके खुद का अच्छा सा रिज्यूमे बना सकते है.

रिज्यूमे जीनियस वेबसाईट पर जाकर रिज्यूमे के टेम्पलेट देखें और अपने पसंद अनुसार डाउनलोड करें

Resume companion

इस वेबसाईट पर भी काफी सारे टेम्पलेट है जिन्हें आप डाउनलोड करके आसानी से रिज्यूमे बना सकते है.

रिज्यूमे कम्पेनियन वेबसाईट से रिज्यूमे टेम्पलेट डाउनलोड करें

मुझे उम्मीद है कि आपको समझ में अ गया होगा कि एक अच्छा सा रिज्यूमे, सीवी या बायोडाटा कैसे बनाया जाता है.

अगर आपको फिर भी समझ नहीं आया है तो हमें नीचे कमेंट कर सकते है जिसका जवाब हम आपको देने का पूरा प्रयास करेंगे.

एक और बात, रिज्यूमे के साथ कवर लेटर की भी जरुरत होती है तो आप नीचे लिंक पर जाकर उस ब्लॉग के बारे में भी पढ़ सकते है.

कवर लेटर क्या है और यह कैसे बनाया जाता है, इसके लिए यहाँ क्लिक करें 

हमें पूरी उम्मीद है कि आपको पूरा पता चल गया होगा कि ऑनलाइन कैसे बना सकते है सीवी और रिज्यूमे.
अगर सीवी या रिज्यूमे से आपको कोई भी बात समझ नहीं आयी हो तो आप हमें कमेंट कर सकते है और पूरी कोशिश करेंगे कि उसका जवाब दें.

अगर अभी भी आप सी वी से जुड़ा कोई सवाल या फिर जानकारी जानना चाहते हैं, तो हमारे फेसबुक ग्रुप पर आइये और पूछिए, हम आपकी पूरी मदद करेंगे। ग्रुप से जुड़ने के लिए  यहाँ क्लिक करें –


आप इन आर्टिकल्स को भी पढ़ सकते हैं


नोट: इस आर्टिकल का अनुवाद राजू जांगिड़ ने किया है।

जब आशुतोष छोटा बच्चा था उसने कहीं पढ़ लिया की दुनिया के सबसे दिलचस्प लोगों को नहीं पता होता है की वह बड़े होंगे क्या बनेंगे। आशुतोष अब बड़े होने के बावजूद उसी सोच में अटका है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here