जानें जवाहर नवोदय विद्यालय में एडमिशन कैसे लें?

जवाहर-नवोदय-विद्यालय-में एडमिशन-कैसे-लें

हमारे देश में कई छोटे-मोटे क्षेत्र ऐसे है जहां गरीबी का सामना करना पड़ता है या किसी अन्य कारण शिक्षा से वंचित रहते है। इसको मद्देनजर रखते हुए सरकार ने जवाहर नवोदय विद्यालय की शुरुआत की थी जिसमें ऐसे बच्चे पढ़ने आते है। तो आज हम इस आर्टिकल में यह जानेंगे कि जवाहर नवोदय विद्यालय में एडमिशन कैसे लेते है।

नवोदय विद्यालय कक्षा 6वीं का परिणाम निकल चुका है देखने के लिए यहाँ क्लिक करें।

आप निम्न टॉपिक चुन सकते है पढ़ने के लिए

जवाहर नवोदय विद्यालय के बारे में

जवाहर नवोदय विद्यालय जिसे सिर्फ नवोदय विद्यालय भी कहा जाता है और यह एक भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा चलाई जाने वाली पूरी तरह से आवासीय, सह शिक्षा, केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से संबद्ध एक शिक्षण परियोजना है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति – 1986 के तहत ऐसे आवासीय विद्यालयों की कल्पना की गई जिन्हें जवाहर नवोदय विद्यालय का नाम दिया गया, जो सर्वश्रेष्ठ ग्रामीण प्रतिभाओं को आगे लाने का उत्तम प्रयास है। इस परीयोजना का प्रमुख लक्ष्य गांव-गांव तक उत्तम शिक्षा पहुँचना है।

इसी तरह आपको यह भी बता दें कि ये विद्यालय पूर्णतः आवासीय एवं निःशुल्क विद्यालय होते हैं जहाँ विद्यार्थियों को नि:शुल्क आवास, भोजन, शिक्षा एवं खेलकूद की पूरी सामग्री उपलब्ध कराई जाती है। हर जिले में एक नवोदय विद्यालय होता है। ऐसे विद्यालयों में ज़्यादातर वो बच्चे पढ़ने आते है जिन्हें आर्थिक समस्या का सामना करना पड़ रहा है। तो आइये आज हम जानते है कि आखिर कैसे जवाहर नवोदय विद्यालय में प्रवेश मिल पाएगा।

कौन ले सकता है जवाहर नवोदय विद्यालय में एडमिशन

अब बात आती है एडमिशन की। जी हाँ, यह भी जानना जरूरी है कि कौन-कौनसी कक्षा वाले इसमें एडमिशन ले सकते है और उन्हें किन बातों या शर्तों का पूरा ध्यान रखना पड़ता है तब जाकर यह एडमिशन होता है। इन कक्षाओं के लिए होता है एडमिशन-

जवाहर नवोदय विद्यालयों में प्रवेश केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित चयन परीक्षा के आधार पर दिया जाता है। इस परीक्षा को जवाहर नवोदय विद्यालय चयन परीक्षा (ज.न.वि. चयन परीक्षा) कहा जाता है। यह चयन परीक्षा वस्तुनिष्ठ एवं लिखित रूप में होती है तथा इसे यह सुनिश्चित करते हुए तैयार किया जाता है कि ग्रामीण क्षेत्रों के प्रतिभाशाली बच्चे, किसी असुविधा के बिना इस परीक्षा में प्रतिस्पर्द्धा कर सकें।


कक्षा 6 के लिए एडमिशन

सबसे पहले तो आपको बता दें कि जवाहर नवोदय विद्यालय में प्रवेश कक्षा 6 से होता है अगर आप कक्षा 5 में एडमिशन लेना चाहते है तो ऐसा नहीं होगा क्योंकि इसमें कक्षा 6, 9 और 11 वाले ही एडमिशन ले सकते है। अब बात करते है कक्षा 6 के एडमिशन के बारे में कि आपको किन बातों का ध्यान रखना पड़ेगा और किन किन शर्तों के आधार पर एडमिशन होगा। पढ़ते रहिए…

इन शर्तों के आधार पर लिया जाता है एडमिशन

1) केवल उस जिले के उम्मीदवार जहां जवाहर नवोदय विद्यालय उपलब्ध हैं, वे प्रवेश के लिए आवेदन करने के पात्र हैं। हालांकि, जिस जिले में जवाहर नवोदय विद्यालय खोला गया है, किन्तु बाद में उस जिले का विभाजन कर दिया जाता है तो जवाहर नवोदय विद्यालय में प्रवेश के लिए जिले की पुरानी सीमाओं को ही मान्यता दी जाएगी। यह उन मामलों में लागू होता है जहाँ नया विद्यालय नए विभाजित जिले में अभी प्रारम्भ नहीं हुआ है।

2) चयन परीक्षा के लिए उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों को एक सरकारी/सरकारी सहायता प्राप्त, अन्य मान्यता प्राप्त स्कूल या राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय शिक्षा संस्थान के ‘बी’ सर्टिफिकेट कॉम्पिटिशन कोर्स, उसी जिले में, जहां उन्होंने/वह प्रवेश चाहती है।

3) प्रवेश पाने वाले उम्मीदवार की आयु 9 से 13 वर्ष के बीच होनी चाहिए। यह उन सभी श्रेणियों के उम्मीदवारों पर लागू होता है, जिनमें अनुसूचित जाति (SC) और अनुसूचित जनजाति (ST) शामिल हैं।

4) ग्रामीण कोटे में प्रवेश लेने के इच्छुक उम्मीदवार को आखिरी तीन वर्षों में, लगातार तीन सत्रों में स्थानीय सरकारी/सरकारी सहायता प्राप्त/मान्यता प्राप्त स्कूल में कक्षा-3, 4 और 5 की परीक्षाओं को उत्तीर्ण किया हो और प्रति वर्ष एक पूर्ण शैक्षणिक सत्र ग्रामीण क्षेत्र में पूरा किया हो।

5) ऐसा उम्मीदवार जिसने शहरी क्षेत्र में स्थित एक स्कूल में अध्ययन किया हो, यहां तक ​​कि किसी भी कक्षा- III, IV या V में सत्र के एक दिन के लिए भी अगर अध्ययन किया है तो उसे शहरी क्षेत्र का उम्मीदवार माना जाएगा। शहरी क्षेत्र वे हैं, जो 2011 की जनगणना या उसके बाद के सरकारी अधिसूचना के माध्यम से अधिसूचित हैं। अन्य सभी क्षेत्रों को ग्रामीण क्षेत्र माना जाएगा।

6) कोई भी प्रत्याशी आवेदन के पात्र नहीं होंगे जिन्हें 30 सितम्बर से पूर्व अगली कक्षा में न चढ़ाया गया हो और कक्षा-5 में प्रवेश न दिया गया हो।

7) किसी भी स्थिति में कोई भी उम्मीदवार चयन परीक्षा में दूसरी बार बैठने का पात्र नहीं होगा।

ग्रामीण, अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति, बालिकाओं/विकलांग बच्चों के लिए आरक्षण

1) जिले में कम से कम 75 प्रतिशत स्थान ग्रामीण क्षेत्रों से चुने हुए प्रत्याशियों से द्वारा भरी जाएगी और शेष सीटें जिले के शहरी क्षेत्रों के प्रत्याशियों से भरी जाएंगी।

2) वहीं अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के प्रत्याशियों के लिए जिले में उनकी जनसंख्या के अनुपात में सीटें आरक्षित करने का प्रावधान है, किन्तु ये सीटें राष्ट्रीय औसत से कम नहीं होनी चाहिए।

3) एक तिहाई सीटें बालिकाओं के लिए आरक्षित हैं।

4) विकलांग (अस्थि विकलांग, बधिर और दृष्टिहीन) बच्चों के लिए 3 प्रतिशत सीटें आरक्षित रखने का प्रावधान है।

नोट:- परीक्षा (ज.न.वि. चयन परीक्षा) का माध्यम अधिसूचित की गई 20 भाषाओं में से कोई एक भाषा में होगी।

ऑनलाइन एडमिशन से पहले यह भी पढ़ लें यहाँ क्लिक करें

यहाँ क्लिक करके करें → कक्षा 6 के ऑनलाइन अप्लाई

यहाँ नीचे देखें कक्षा 6वीं का परिणाम

कक्षा 6वीं JNVST 2019 परिणाम – क्षेत्रीय ऑफिस शिलॉन्ग, यहाँ क्लिक करें।
कक्षा 6वीं JNVST 2019 परिणाम – क्षेत्रीय ऑफिस पुणे, यहाँ क्लिक करें।
कक्षा 6वीं JNVST 2019 परिणाम – क्षेत्रीय ऑफिस पटना, यहाँ क्लिक करें।
कक्षा 6वीं JNVST 2019 परिणाम – क्षेत्रीय ऑफिस हैदराबाद, यहाँ क्लिक करें।
कक्षा 6वीं JNVST 2019 परिणाम – क्षेत्रीय ऑफिस भोपाल, यहाँ क्लिक करें।
कक्षा 6वीं JNVST 2019 परिणाम – क्षेत्रीय ऑफिस लखनऊ, यहाँ क्लिक करें।
कक्षा 6वीं JNVST 2019 परिणाम – क्षेत्रीय ऑफिस जयपुर, यहाँ क्लिक करें।

आप परिणाम यहाँ भी देख सकते है → कक्षा 6 परिणाम देखें


कक्षा 9वीं के लिए एडमिशन

इसी तरह अगर हम कक्षा-9 की बात करें तो इसमें खाली सीटें (लेटरल) प्रवेश परीक्षा के माध्यम से भरी जाती हैं।

इन शर्तों के आधार पर लिया जाता है एडमिशन

1) केवल वही उम्मीदवार कक्षा 9 में प्रवेश से ले सकते है जिन्होंने कक्षा आठवीं में उसी जिले से और सरकारी विद्यालय से अध्ययन किया है।

2) प्रवेश पाने वाले अभ्यर्थी का चयन प्रवेश परीक्षा के वर्ष मई महीने की एक तारीख को आयु वर्ग 13-16 वर्ष के बीच होनी चाहिए। यह उन सभी श्रेणियों के उम्मीदवारों पर लागू होता है जिनमें अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के विद्यार्थी शामिल होते हैं।

3) परीक्षा का माध्यम अंग्रेजी या हिंदी है।

इन्हें मिलता है कक्षा 9वीं के लिए आरक्षण

जवाहर नवोदय विद्यालय में कक्षा 9 में अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति श्रेणी हेतु उपलब्ध खाली सीटें, जैसा कि अधिसूचित है इन श्रेणियों के छात्रों के लिए आरक्षित रखी जाती हैं।

ऑनलाइन एडमिशन से पहले यह भी पढ़ लें यहाँ क्लिक करें

यहाँ क्लिक करके करें → कक्षा 9 के ऑनलाइन अप्लाई

कक्षा 11वीं के लिए एडमिशन

अब बात आती है कक्षा 11 की, तो प्रत्येक जवाहर नवोदय विद्यालय में उपलब्ध रिक्त सीटें हर वर्ष स्थानीय समाचार पत्रों में संबंधित जवाहर नवोदय विद्यालय द्वारा जारी की जाती हैं। कक्षा-11 में प्रवेश हेतु दाखिला प्रक्रिया हर वर्ष 15 जुलाई तक पूरी की जाती हैं।

इन शर्तों के आधार पर लिया जाता है एडमिशन

1) सबसे पहले तो जो कक्षा 11 के लिए जवाहर नवोदय विद्यालय में प्रवेश लेने के इच्छुक विद्यार्थियों की आयु 14 से 18 वर्ष होनी चाहिए।

2) विद्यार्थियों को प्रवेश लेने वाले वर्ष के शैक्षणिक सत्र के दौरान उस जिले के किसी मान्यता प्राप्त विद्यालय से कक्षा 10 पास की हो जिसमें जवाहर नवोदय विद्यालय स्थापित है।

3) इसके अलावा विद्यार्थी को कक्षा 10 की बोर्ड की परीक्षा में अंकों के आधार पर योग्यता क्रम सूची में रखा जाता है और प्रवेश उम्मीदवार की योग्यता एवं संबंधित जवाहर नवोदय विद्यालय में उपलब्ध सीटों के आधार पर दिया जाता है।

साथ ही अभ्यर्थियों को हिन्दी एवं अंग्रेजी का ज्ञान भी अच्छा होना चाहिए।

ऑनलाइन एडमिशन से पहले यह भी पढ़ लें यहाँ क्लिक करें

यहाँ क्लिक करके करें → कक्षा 11 के ऑनलाइन अप्लाई

एडमिशन कैसे लें ?

जवाहर नवोदय विद्यालय में अगर आप भी एडमिशन लेना चाहते है तो आपको बता दें कि इसके एडमिशन के लिए आपको ऑनलाइन ही विद्यालय की आधिकारिक वेबसाइट पर अप्लाई करना होता है। अप्लाई करने से पहले से आपको कई बातों का ध्यान रखना पड़ता है क्योंकि अगर नजरअंदाज करोगे तो फालतू में मेहनत ही करनी पड़ेगी। जिन बातों का ध्यान रखना है उसको हमने ऊपर क्लास वाइज़ बताया है।

एप्लिकेशन फॉर्म भरने के बाद आपका एक एंटरेंस एग्जाम (प्रवेश परीक्षा) होती है जिसमें पास होना होता है। फिर उसके आधार पर सलेक्ट किया जाता है। इसका परिणाम भी ऑनलाइन ही घोषित किया जाता है।

ऑनलाइन पंजीकरण के लिए क्या-क्या चाहिए

1. विद्यार्थी का रंगीन फोटो
2. विद्यार्थी के हस्ताक्षर
2. माता-पिता के हस्ताक्षर

आवेदन पत्र के साथ वर्ग/श्रेणी के प्रमाण पत्र

जैसे- सामान्य, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग
और दिव्यांग प्रमाण पत्र में से किसी एक की आवश्यकता होती है जिस वर्ग में आप आते है।

➡ अगर आपको फॉर्म नहीं भरना आता है तो यह वीडियो देखें

साथ ही आपको बता दें कि परीक्षा विभिन्न भाषाओं में होती है और इसका सेलेक्सन आपको ही करना पड़ता है जो आपके लिए उचित हो। इसके अलावा परीक्षा में कुछ विषय होते है और उसमें अंक निर्धारित किए जाते है। इस तरह परीक्षा होती है और अब हम जानेंगे 6वीं, 9वीं और 11वीं के बारे में कुछ बातें जिनका ध्यान रखना होता है।

➡ परीक्षा संबंधी विस्तृत जानकारी के लिए यह फॉर्म पढ़ सकते है→ यहाँ है फॉर्म


तो आशा करते है कि आपको पूरा प्रोसेस समझ आ गया होगा और नहीं आया है तो कृपया हमें कमेन्ट में जरूर पूछिये। हम कोशिश करेंगे कि आपके सवाल का जवाब अवश्य दें।

आप यहाँ हमारा फेसबुक पर जाकर पेज को लाइक कर सकते है और चाहो तो यूट्यूब पर सबस्क्राइब भी कर सकते हो। सब फ्री भी है। 

जन्म से ही क्रिकेट का दीवाना हूँ लेकिन क्रिकेटर बन नहीं सका और अब विकिपीडियन बनकर खिलाड़ियों पर लिखना शौक बना दिया है।

2 टिप्पणी

    • केवल उस जिले के उम्मीदवार जहां जवाहर नवोदय विद्यालय उपलब्ध हैं, वे प्रवेश के लिए आवेदन करने के पात्र हैं। हालांकि, जिस जिले में जवाहर नवोदय विद्यालय खोला गया है, किन्तु बाद में उस जिले का विभाजन कर दिया जाता है तो जवाहर नवोदय विद्यालय में प्रवेश के लिए जिले की पुरानी सीमाओं को ही मान्यता दी जाएगी। यह उन मामलों में लागू होता है जहाँ नया विद्यालय नए विभाजित जिले में अभी प्रारम्भ नहीं हुआ है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here