Bank_Bharti

बैंक जॉब जी हाँ, बैंकों में हर साल अनगिनत संख्या में भर्तियाँ निकलती है। आईबीपीएस, एसबीआई और आरबीआई बहुत सारी पोस्ट के लिए भर्तियाँ निकालता है और लाखों युवाओं का सपना इन्हीं में नौकरी करना होता है। तो अगर आप भी बैंक में करियर बनाना चाहते है तो यह आर्टिकल जरूर ध्यान से पढ़ें और चाहो तो नीचे जो टेबल दी गयी है और उसमें से खुली नौकरी के लिए अप्लाई कर सकते है।

➢ बैंक क्या होता है और कितने प्रकार के होते है
➢ ग्रेज्युएशन के बाद बैंक में नौकरी
➢ 12वीं पास के लिए बैंक में नौकरी
➢ नौकरी कैसे ढूंढें

लेटेस्ट बैंक जॉब्स अपडेट 2019 

**IBPS PO 2019 की नोटिफिकेशन आ चुकी है। डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें **

**IBPS RRB 2019 की नोटिफिकेशन आ चुकी है। डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें **

**SBI PO 2019 का एडमिट कार्ड आ गया  है। डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें **

**SBI clerk  2019 का एडमिट कार्ड आ गया  है। डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें **

बैंक क्या होता है?

बैंक एक ऐसा माध्यम है जहाँ लोगों का पैसा जमा किया जाता है और जरुरत पड़ने पर वापस निकाला जा सकता है। बैंक लोगों के द्वारा जमा किये गए पैसों पर ब्याज (इंटरेस्ट) भी देता है। इसके अलावा बैंक लॉन और इन्वेस्टमेंट जैसी सुविधाएँ भी देता है।

बैंक के प्रकार

भारतीय बैंकिंग सिस्टम में 27 पब्लिक सेक्टर बैंक, 21 प्राइवेट सेक्टर, 49 विदेशी, 56 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, 1562 शहरी को-ऑपरेटिव और 94,384 ग्रामीण को-ऑपरेटिव बैंक है।

1. सेंट्रल बैंक (भारतीय रिजर्व बैंक): भारत का सेंट्रल बैंक है भारतीय रिजर्व बैंक। यह बैंक बाकी सभी बैंकों को संचालित करता है। यह बैंक दो भागों में विभाजित है –

– केन्द्रीय कार्यालय (सेन्ट्रल ऑफिस)
– क्षेत्रीय कार्यालय (रीजनल ऑफिस)

31 क्षेत्रीय कार्यालय और एक केन्द्रीय कार्यालय है। केन्द्रीय कार्यालय जो कि  मुंबई में स्थित है।

2. पब्लिक सेक्टर बैंक मतलब “सरकारी बैंक” जिसमें 51% से अधिक भागीदारी सरकार की होती है जैसे स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया और इलाहाबाद बैंक इत्यादि

3. प्राइवेट सेक्टर बैंक मतलब “निजी बैंक” होता है जिसमें 51% से ज्यादा भागीदारी किसी निजी कंपनी की होती है जैसे HDFC बैंक या ICICI, Axis बैंक इत्यादि

4. रीजनल ररल बैंक जिसका मतलब “क्षेत्रीय ग्रामीण  बैंक” होता है. ग्रामीण बैंक राज्य स्तर के बैंक होते है जो सरकार संचालित करती है। इनका मुख्य मकसद ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों तक बैंक की सेवायें पहुँचाना है. ग्रामीण बैंक जैसे कि कावेरी ग्रामीण बैंक, पांड्यन ग्राम बैंक इत्यादि।

5. को-ऑपरेटिव बैंक जिसका मतलब “सहकारी बैंक” होता है. सहकारी बैंक ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों और शहरी क्षेत्रों में छोटे उत्पादन करने वाले व्यापारियों को सेवायें देता है। जैसे कि द बिहार स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड इत्यादि

आप सभी बैंक यहाँ देख सकते है।

ग्रेज्युएशन के बाद सरकारी बैंक में नौकरी

सरकारी या प्राइवेट सेक्टर बैंक हर परीक्षाएं आयोजित करती है पीओ/क्लर्क/एसओ की पोजीशन के लिए और इन एग्जाम के लिए लाखों लोग अप्लाई करते है। बैंक बहुत सारे जॉब वैकेंसी निकालता है। इन जॉब्स के लिए एग्जाम क्लीयर करना होता है। ये एग्जाम ऑनलाइन (कंप्यूटर पर आधारित) होते है। बैंक में आप इन सब पोजीशन के लिए एग्जाम दे सकते है:

  1. एसबीआई पीओ 2019 की पूरी जानकारी के लिए क्लिक करें

  2. आईबीपीएस पीओ 2019 की पूरी जानकारी के लिए क्लिक करें

  3. एसबीआई क्लर्क 2019 की पूरी जानकारी के लिए क्लिक करें

  4.  आईबीपीएस क्लर्क 2019 की पूरी जानकारी के लिए क्लिक करें

  5. आईबीपीएस आरआरबी  ऑफिसर स्केल -I और ऑफिस असिस्टेंट 2019 की जानकारी के लिए क्लिक करें

  6. आरबीआई ग्रेड बी नोटिफिकेशन 2019 के लिए क्लिक करें

  7. आरबीआई असिस्टेंट 2019 के लिए क्लिक करें

12वीं के बाद बैंक में नौकरी के विकल्प

– डाटा इंट्री ओपरेटर:  इसमें डाटा दिया जाता है जिसको कंप्यूटर में डालना होता है, टाइपिंग वर्क होता है। डाटा इंट्री में इनफार्मेशन को अपडेट करना होता है। जैसे कि बैंक में जितने भी फॉर्म भरे जाते है कस्टमर की डिटेल के लिए, उन डिटेल को कंप्यूटर में स्टोर करना होता है।

– कंप्यूटर ओपरेटर: कंप्यूटर और बाक़ी मशीन को कंट्रोल और मैंटेन करना होता है। सारे रिकॉर्ड बनाना, डाटा बैकअप लेना, सॉफ्टवेयर चेक करना और प्रिंटर में पेपर लोड करना भी एक कंप्यूटर ओपरेटर का काम होता है।

– सेल्स: फील्डवर्क करना होता है इसमें कि पोटेंशियल कस्टमर्स तक प्रोडक्ट सेल करना। जैसे कि क्रेडिट कार्ड सेल करना, बैंक अकाउंट ओपन करना इत्यादि। इसके लिए आपकी कम्युनिकेशन और मार्केटिंग स्किल बहुत अच्छी होनी चाहिए।

– फ्रंट एंड ओपरेटर: इसमें कस्टमर केयर एक्सीक्यूटिव को कस्टमर के प्रश्नों को कॉल या ईमेल के जरिये सुलझाया जाता है। जैसे एक कॉल सेंटर होता है। टेलीकॉलिंग/चैट प्रोसेस का करना होता है

– बैक एंड ओपरेशन: इसमें एडमिनिस्ट्रेटिव काम जैसे, ऑफिस फंक्शनिंग मैनेज करना, डाक्यूमेंशन करना।

बैंक में भर्ती के योग्यता

ऊपर दी गयी नौकरियों में आप 12वीं पास या स्नातक के बाद नौकरी कर सकते है।

स्किल/कौशल

गुड कम्युनिकेशन स्किल, कंप्यूटर स्किल, डाक्यूमेंशन स्किल और सामान्य अंग्रेजी का ज्ञान।

स्टार्टिंग सैलरी

इसमें आपकी शुरुआती सैलरी रुपए 10,000 – 40,000 हर महीने या उससे भी ज्यादा हो सकती है।

नौकरी कैसे ढूँढें?

ऑनलाइन जॉब पोर्टल जैसे Naukri.com Indeed.com , Wisdomjobs.com  इत्यादि। इन पोर्टल पर आपको अकाउंट बनाना होता है और साथ ही आपको अपनी पूरी डिटेल भी डालनी पड़ती है, जैसे कि पढ़ाई कहाँ तक की है, कार्य का अनुभव (अगर किया है तो), इंटर्नशिप और स्किल जैसी डिटेल रिज्यूमे के साथ अपलोड करनी होती है। इसके बाद स्किल और रूचि के अनुसार जॉब सर्च की जा सकती है और अप्लाई भी किया जा सकता है। प्राइवेट बैंक में बहुत जॉब मिलती है जैसे, कंप्यूटर ओपरेटर, डाटा इंट्री ओपरेटर, सेल्स एक्सीक्यूटिव इत्यादि। वेकेंसी के बारे में इन पोर्टल पर नोटिफिकेशन आती रहती है।

बैंकों की आधिकारिक वेबसाइट या सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे कि फेसबुक, ट्विटर या लिंक्डइन पर भी खाली नौकरियों के लिए अपडेट दिए जाते है. इन प्लेटफॉर्म से भी जॉब सर्च की जा सकती है। आप गूगल पर भी अपनी रूचि और स्किल के आधार पर जॉब सर्च कर सकते है। इनके अलावा समाचार पत्रों में भी बैंक विज्ञापन देते है जॉब की भर्तियों के लिए।

आप जॉब कैसे ढूँढे इसके लिए यह ब्लॉग पढ़ सकते है: ➺ यहाँ क्लिक करें।

जन्म से ही क्रिकेट का दीवाना हूँ लेकिन क्रिकेटर बन नहीं सका और अब विकिपीडियन बनकर खिलाड़ियों पर लिखना शौक बना दिया है।

20 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here